Liked

10.1.11

Pin It

तुमने एक दिन मेरी पत्नी की बेइज्जती की थी.......




बात उन दिनों कि है जब रामप्रसाद बाड़मेर जिले के एक दूरदराज विद्यालय में लिपिक पद पर कार्यरत था। एक रोज बड़े साहब की श्रीमती जी ने रामप्रसाद से कहा की वो एक पार्टी करने वाली हैं और रामप्रसाद को पार्टी में कविता सुनाने आना होगा। रामप्रसाद ने कुछ सोचकर जवाब दिया की ना तो उसे मॉडर्न पार्टी पसंद है और ना ही पार्टी में अपनी कविता सुनाना भी।

अगले रोज बड़े साहब ने रामप्रसाद को अपने चेम्बर में बुलाकर कहा की जो भी रामप्रसाद ने किया वो सही नहीं था, लेकिन रामप्रसाद भी अपनी बात पर अड़ा रहा।

लगभग पाँच साल बाद.................

एक रात ठीक ग्यारह बजे रामप्रसाद के गाँव से फोन आया कि रामप्रसाद की माँ की तबीयत बहुत खराब है, गाँव वालों ने उसे अस्पताल में पहुँचा दिया है। रामप्रसाद तुरंत गाँव रवाना होने की तैयारी करने लगा। बाहर सड़क पूरी तरह से सुनसान थी। रामप्रसाद ने बड़े साहब के घर जाकर विनती की "श्रीमान जी रात बहुत हो चुकी है, मेरी माँ बहुत बीमार हैं, हो सके तो सरकारी वाहन से मुझे नजदीकी कस्बे तक छुड़वा दें जहां से मैं कोई साधन कर लूँगा ।"

बड़े साहब ने चश्मा लगाते हुये जवाब दिया " भूल गए रामप्रसाद, तुमने एक दिन मेरी पत्नी की बेइज्जती की थी....अब किस मुँह से आये हो.....अब जाओ यहाँ से और फिर कभी मुझे रात में डिस्टर्ब मत करना ।"

रामप्रसाद ने अपने थैले में से टॉर्च निकाली और पैदल ही कस्बे की और बढ़ने लगा।

If you enjoyed this post and wish to be informed whenever a new post is published, then make sure you Subscribe to regular Email Updates
मेरे बारे में...
रहने वाला : सीकर, राजस्थान, काम..बाबूगिरी.....बातें लिखता हूँ दिल की....ब्लॉग हैं कहानी घर और अरविन्द जांगिड कुछ ब्लॉग डिजाईन का काम आता है Mast Tips और Mast Blog Tips आप मुझसे यहाँ भी मिल सकते हैं Facebook या Twitter . कुछ और

यदि यह आपको उपयोगी लगता है तो कृपया इसे साँझा करें !
Technorati Digg This Stumble Stumble Facebook Twitter
साँझा करें Share It Now !
StumpleUpon DiggIt! Del.icio.us Blinklist Yahoo Furl Technorati Simpy Spurl Reddit Google Twitter FaceBook

Comments
21 Comments
21 टिप्पणियां:
  1. इस लघु कथा में ...दो बात स्पस्ट होती है
    १.रिश्तों का तार -तार होना
    २ .पुरानी बातों की गठरी को ढोना

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरविन्द जी इस कथा से क्या सीख मिलती है .....?

    यही कि दिल में पुरानी बातों की खुन्दस रखें ......?

    उत्तर देंहटाएं
  3. ऐसे ही वेबकुफ़ लोग है समाज है.. पर रामप्रसाद जी जैसे लोग भी है,, जिन्दाबाद..

    उत्तर देंहटाएं
  4. अक्‍सर ऐसे ही होता है ...।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बदले की भावना से ग्रस्त लोगों की मानसिकता - जो अच्छे बुरे में भेद नहीं कर पाती - पर सटीक और करारा ताना मारती यह लघु कथा दिल को छू गयी| बहुत बहुत बधाई बन्धुवर| हिन्दुस्तानी छंद विधा के विकास के लिए आरंभ किए गये इस ब्लॉग पर भी कभी पधारिएगा:-
    http://samasyapurti.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. dushmani aur insaniyat dono ekdam alag-alag cheejen hain.yah kabhi nahin bhulna chahiye.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरविंद जी,
    आपकी लघुकथा सोचने पर विवश करती है !
    बड़े ही गंभीर भाव भरे हैं इसमें !
    धन्यवाद ,
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच आँसूं खजाना है, किस्मत वाले ही प्रेम के अश्रु बहा सकते हैं ! सुंदर रचना के लिये बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. aisee chhoti see khunnas ke liye kisi ke jindagi se khelna....uff aisee hai duniya...

    उत्तर देंहटाएं
  10. dono me fark tha ... taklif apni jagah thi, per baat yahan ek buzurg kee tabiyat kee thi

    उत्तर देंहटाएं
  11. लोगों में बदले की भावना प्रबल है। संवेदनशीलता का अकाल है। यथार्थ का चित्रण करती बेहतरीन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. छोटी-छोटी बातों में बंट गया संसार...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज के समाज मे ऐसी स्थितियां अक्सर देखने को मिलती है ।
    मगर यदि हम सही है सच्चे है ईमानदार है तो , मुश्किले भी एक समय के बाद अपना रास्ता बदल लेती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. अरविंद जी, आपने विषय बढिया उठाया है पर इसमें कहानीपन का अभाव है। शुभकामनाएं। पुखराज।

    उत्तर देंहटाएं

Feed Burner Updates

My tips & Tricks

Facebook

People Found Useful Blog Tips at MBT

Support Me !

Support Me By Adding MBT Badge On Your Respective Blog.

 

© 2010 - 2015. Arvind Jangid All Rights Reserved Arvind Jangid, Sikar, Rajasthan. Template by Mast Blog Tips | Back To Top |