Liked

14.12.10

Pin It

ये सूरज रोज सुबह यू ही नहीं, निकला करता है




अच्छा हो या बुरा ही मगर तू रख भरोसा,
एक दिन वक्त सबका बदल जाया करता है।

बे कदर आज जब जमाने वाले बने,
रोज रोज तू क्यूँ अश्क जाया करता है। 

कभी इससे या कभी कभी उससे भी,
दिल नाजुक है अक्सर टूट जाया करता है। 

जिंदगी तो जिंदादिली का नाम होती है,
जिंदा वही अश्क पीकर जो हँसा करता है। 

सुख दुख तो बस धूप छाँव का एक खेल,
यहाँ तो चाँद को भी ग्रहण लगा करता है। 

बड़ी पुरानी फितरत है इस आदमी की,
छेद करने को अक्सर थाली ढूंढा करता है। 

कभी जमाने से या फिर खुद से ही,
इंसान तो किसी न किसी से लड़ा करता है। 

सुन घमंड कैसा रे तू माटी का पुतला,
माटी का तो माटी में मिल जाया करता है। 

अनुसरण करना गुरु, साधू, पीर फकीरों का,
उसका नहीं जो कुर्सियों के लिए लड़ा करता है। 

जिंदगी में सच्ची कमाई इज्जत की,
दौलत वाला भी खाली हाथ जाया करता है। 

कुछ मदद का हाथ भी बढ़ाया कर,
दवाओं से नहीं दुआओं से इंसान जिया करता है। 

जी लौट कर भी मिलता है प्यार यहाँ तो,
बेवजह जो प्यार को लोगों में बांटा करता है. 

किताबों से बढ़कर दोस्त कौन मिलेगा,
कई सवाल जवाब एक किताबों में मिल जाया करता है।

कभी कभी हरी का नाम सुमर लिया कर
गयी जवानी बुढापे में बैठ पछताया करता है. 

बेफिकर मत हो जाना मन मानी करते करते,
ऊपर बैठा कोई तुम्हारे गुनाहों का हिसाब लिखा करता है। 

कहीं बैठ मत जाना मन हार कर,
चलता आदमी कहीं न कहीं पहुँच जाया करता है। 

जमाने से इतनी रुसवाई भी ठीक नहीं,
ढूँढने से आज भी नेक इंसान मिल जाया करता है। 

जाना तो सबको है कोई आगे कोई पीछे,
जिंदा रहेगा वही दूसरों के लिए जिया करता है। 

कभी छोड़ मत देना साथ "सच" का,
झूँठ के फैलाये लाख अँधेरों में भी वो तो चमका करता है। 

पढ़ना सीख इन दोस्ताना चेहरों को भी,
बात बात पर जो अचानक रंग बदल जाया करता है। 

दिल की बातें सबको मात बताना,
दोस्त वही बुरे दौर में जो काम आया करता है। 

सच्चा दोस्त करेले के समान,
वो दोस्त नहीं जो मीठा मीठा बोल भरमाया करता है। 

गम का साया क्यों ओढना जब,
मंजिल तो मुकरर खुदा किया करता है।

दफ्न करदे सीने में ज़िंदगी के दुख सारे,
फूल तो बेदर्द काँटों में भी महका करता है।

जिंदगी में माँ बाप की कदर कमाना,
गालियों में भी जिसके प्यारबिखरा करता है। 

सत् सत् नमन धरती माता के धीरज को,
अच्छा बुरा इंसान पैर रख जिस पर चला करता है। 

फिर उठ नहीं पाता है वो कभी भी,
एक बार जो नजरों से गिर जाया करता है। 

खैर मना मिला जो अनमोल मानव जीवन,
जवानी जोश में खोई बुढ़ापे में बैठ पछताया करता है। 

पुराना जान कर छोड़ मत किसी को,
पुरानी खुराक और दोस्त मुश्किल दौर में काम आया करता है। 

आत्मा की सुनना मन की नहीं,
मन तो ललचा कर दलदल में फसाया करता है। 

कितने एहसान हैं इन पेड़ों के भी,
खुद्दार इंसान अहसान किसी का चुकाया करता है। 

उजली चादर जरा संभाल के रखना,
मैली चादर को दिखाते इंसान शरमाया करता है। 

कुछ यकीन तो उस ऊपर वाले पर भी रख,
ये सूरज रोज सुबह यू ही नहीं निकला करता है। 

If you enjoyed this post and wish to be informed whenever a new post is published, then make sure you Subscribe to regular Email Updates
मेरे बारे में...
रहने वाला : सीकर, राजस्थान, काम..बाबूगिरी.....बातें लिखता हूँ दिल की....ब्लॉग हैं कहानी घर और अरविन्द जांगिड कुछ ब्लॉग डिजाईन का काम आता है Mast Tips और Mast Blog Tips आप मुझसे यहाँ भी मिल सकते हैं Facebook या Twitter . कुछ और

यदि यह आपको उपयोगी लगता है तो कृपया इसे साँझा करें !
Technorati Digg This Stumble Stumble Facebook Twitter
साँझा करें Share It Now !
StumpleUpon DiggIt! Del.icio.us Blinklist Yahoo Furl Technorati Simpy Spurl Reddit Google Twitter FaceBook

Comments
17 Comments
17 टिप्पणियां:
  1. ... vaah vaah ... kyaa kahane ... bahut sundar ... prasanshaneey !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'sachchi kamai ijjat ki
    daulatwala bhi khali hath jaya karta hai.'

    har 'do lina' jeevan sootra ki tarah hai..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन और जिन्दगी से रूबरू कराती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस सुन्दर रचना की चर्चा
    बुधवार के चर्चामंच पर भी लगाई है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन का फलसफा ऐसा ही होना चाहिए ...मगर अब इनकी क़द्र कहाँ ...
    बेहतरीन संदेशों से सजी अच्छी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  6. .

    अरविन्द जी ,

    सबसे पहले तो एक बहतरीन रचना के लिए बधाई। हर पंक्ति जीवन जीने की कला का निर्देश कर रही है।

    You seen to be a realized soul.

    Regards,

    .

    उत्तर देंहटाएं
  7. लांग रेंज कविता, दूर-दूर तक नजर है आपकी.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतने सारे अनमोल विचारों को एक गुलदस्ते में पिरो दिया है आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन का फलसफा सिखाती प्रेरणादायी रचना...

    एक सुझाव देना था,आशा है आप इसे अन्यथा न लेंगे..

    इसे यदि सम मात्रा में, पद, दोहे या शेर की तरह लिखते तो इसकी सुन्दरता और भी बढ़ जाती.रचना का सन्देश अपार कल्याणकारी है,पर अभी जिस प्रकार आपने लिखा है, प्रवाह बाधित हो रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुंदर लग रहा है /
    आज चुनी गई थी मेरी एक रचना चर्चामंच पर /
    वही से देखा आपको /बड़ा ही अच्छा लग रहा है आपसे जुड़कर
    सही kaha आपने किताबों से अच्छा मित्र कोई नहीं /
    मेरे ब्लॉग पर भी पधारे

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत व्यापक और सार्थक सन्देश समाहित किये हुए सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. विस्तृत ....लेकिन प्रेरणादायक रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. वास्तविकता से रूबरू कराती रचना। बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं

Feed Burner Updates

My tips & Tricks

Facebook

People Found Useful Blog Tips at MBT

Support Me !

Support Me By Adding MBT Badge On Your Respective Blog.

 

© 2010 - 2015. Arvind Jangid All Rights Reserved Arvind Jangid, Sikar, Rajasthan. Template by Mast Blog Tips | Back To Top |