Liked

4.1.11

Pin It

बुजुर्गों को आँगन में बुला के देखिए





मत समझिए कलम को बेजान,
पन्ने इतिहास के पलट के देखिये।

खुले रहते दरवाजे जहाँ हरदम,
खुदा की दहलीज़ पर आके देखिये। 

जहान लगता सारा जन्नत जैसा,
खुद को खाक में मिला के देखिये। 

आज बच्चे तरसने लगे खेलने को,
आंगन की दीवार गिरा के देखिये। 

खुद ही चले जाएंगे आतताई कैसे,
खुदीराम बोस से पूछ के देखिये। 

इंसान कैसे हुआ जुदा इंसान से,
लहू को लहू में मिला के देखिये। 

शायद भूल चले ये वतन किसका,
बुजुर्गों से नजरें मिला के देखिए।

क्या क्या पा लिया है आज हमने,
बुजुर्गों को आँगन में बुला के देखिए।  

टूट जाएंगे जाने वहम आपके कितने,
नजर से नजर को मिला के देखिये।

आज बोलना भी तो आसान नहीं रहा,
"सच" को जबान पे चढ़ा के देखिये।


If you enjoyed this post and wish to be informed whenever a new post is published, then make sure you Subscribe to regular Email Updates
मेरे बारे में...
रहने वाला : सीकर, राजस्थान, काम..बाबूगिरी.....बातें लिखता हूँ दिल की....ब्लॉग हैं कहानी घर और अरविन्द जांगिड कुछ ब्लॉग डिजाईन का काम आता है Mast Tips और Mast Blog Tips आप मुझसे यहाँ भी मिल सकते हैं Facebook या Twitter . कुछ और

यदि यह आपको उपयोगी लगता है तो कृपया इसे साँझा करें !
Technorati Digg This Stumble Stumble Facebook Twitter
साँझा करें Share It Now !
StumpleUpon DiggIt! Del.icio.us Blinklist Yahoo Furl Technorati Simpy Spurl Reddit Google Twitter FaceBook

Comments
19 Comments
19 टिप्पणियां:
  1. क्या खुद ही चले जाएंगे आतताई,
    सावरकर, खुदीराम, बोस से पूछ के देखिये।

    satya kaha hai...

    उत्तर देंहटाएं
  2. जायेगा वहम आपके कितने
    नजर से नजर मिला देखिये
    ...............बिकुल सत्य कहा आपने अरविन्द जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर भावमय प्रस्‍तुति हर एक पंक्ति एक नये सच को जीवंत करती हुई ...।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंसान कैसे जुदा इंसान से
    लहू को लहू में मिला के देखिए।
    बहुत खुब।
    खुबसुरत एहसास लिए सुन्दर रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अरविन्द जी
    आपकी इस गजल में भूत ..भविष्य और वर्तमान तीनों बहुत संजीदगी से अभिव्यक्त हुए हैं ...काफी संजीदगी से अपने हर एक लफ्ज का प्रयोग किया है ...हर एक शेर में भाव सम्प्रेषण ...कमाल का है ...कुल मिलकर पूरी गजल ..के क्या कहने ..यूँ ही लिखते रहें ...मेरी पसंद की विधा में .....शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक बेहतरीन ग़ज़ल ख़ास तौर पे बुजुर्गों को बुला के देखिये तो लाजवाब है

    उत्तर देंहटाएं
  7. जहाँ सारा जन्नत जैसा
    खुद को खाक में मिला कर देखिये !
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  8. टूट जाएंगे वहम आपके कितने,

    बेहतरीन अरविंद भाई| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  9. भूत, भविष्य और वर्तमान तीनों बहुत संजीदगी से अभिव्यक्त हुए हैं इस गजल में| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक सन्देश देती कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच बोलना आसान नहीं. ...
    सुन्दर एवं सार्थक प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  12. इंसां कैसे जुदा इंसान से ,
    लहू से लहू मिला कर देखिये !
    वाह,आपके चिंतन की गहराई इस शेर में साफ़ दिखाती है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  13. बच्चे तरसने लगे खेलने को,
    आंगन की दीवार गिरा के देखिये।

    waah kya baat hai !

    उत्तर देंहटाएं
  14. maine aapke comments Divya Ji ke Blog Zeal pe padhi...aapke vichar kaafi positive hain ..aapki kavita mujhe achchi lagi. Thanks

    उत्तर देंहटाएं
  15. खूबसूरती से व्यक्त किये गए विचार....नव वर्ष मंगलमय हो !!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं

Feed Burner Updates

My tips & Tricks

Facebook

People Found Useful Blog Tips at MBT

Support Me !

Support Me By Adding MBT Badge On Your Respective Blog.

 

© 2010 - 2015. Arvind Jangid All Rights Reserved Arvind Jangid, Sikar, Rajasthan. Template by Mast Blog Tips | Back To Top |